Sahabi Kise Kehte Hain Hindi Mein Jane | सहाबी किसे कहते हैं

Sahabi Kise Kehte Hain आज आप जानेंगे कि सहाबा किसे कहते हैं | हम सहाबा ए किराम रज़ियल्लाहु अनहुम से मुहब्बत करते है और जब भी हम सहाबा का ज़िक्र करते है अच्छाई के साथ ज़िक्र करते हैं उनसे मुहब्बत दीन, ईमान और अहसान की अलामत है और उनसे नफ़रत कुफ़र निफ़ाक़ और सरकशी है | Sahaba Kise Kahate Hain in Hindi

Sahabi Kise Kehte Hain

Sahabi उसे कहते है जिस ने ईमान की हालत मे हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम से मुलाक़ात की और उनका खात्मा ईमान की हालत मे हुआ हो

हर वो शख़्स सहाबी शुमार होगा जो मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम से इस हाल मे मिला हो के वो आप की रिसालत को मानता था फिर वो इस्लाम पर ही क़ाइम रहा और उनका खात्मा ईमान पर ही हुवा हो, चाहे वो ज़ियादा अरसे तक नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के साथ मे रहे हो या कुछ वक़्त के लिए |

और चाहे उन्हो ने आप सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम की हदीस को रिवायत किया हो या न किया हो | और चाहे उन्हो ने नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम को अपनी आँखों से देखा या नाबीना हो ने के सबब वो आप का दीदार न कर सके हो sahabi रसूल माने जाएंगे | और एसा शख़्स सहाबी नहीं माना जाएगा जो ईमान लाने के बाद मुरतद होगया |

अल्लाह तआला ने दुन्या मे सहाबा ए किराम रज़ियल्लाहु अनहुम अज्मईन से अपनी रज़ा का ऐलान फ़रमाया के अल्लाह तआला उन से राज़ी होगया और वो अल्लाह से राज़ी होगए |

अल्लाह तआला ने सहाबा ए किराम रज़ियल्लाहु अनहुम के ईमान, तक़वा और क़ल्बी केफ़ियत का इम्तिहान ले कर उन्हें कामयाब क़रार दिया और मग्फ़िरत और बड़े अजर का वादा फ़रमाया | अल्लाह तआला ने सहाबा ए किराम रज़ियल्लाहु अनहुम के दिलों को ईमान के साथ मुज़य्यन फ़रमाया, उन के दिलों मे ईमान की मुहब्बत डाल दी |

ये भी पढे: Istikhara Ki Dua

Sahaba Ko Manne Ka Aqeeda

अम्बिया ए किराम अलैहिमुस्सलाम के बाद तमाम इन्सानों मे सब से अफ़्ज़ल सहाबा ए किराम रज़ियल्लाहु अनहुम है |

सहाबा को मानने की दलील

तमाम सहाबा ए किराम रज़ियल्लाहु अनहुम आदिल, मोमिन कामिल और जन्नती है |

और वो जो ईमान लाए और हिजरत की और अल्लाह की राह मे लड़े और जिनहोने जगा दी और मदद की वही सच्चे ईमान वाले है उन के लिए बख़्शिश और इज्ज़त की रोज़ी है | (अनफ़ाल 74)

और सब मे पहले मुहाजिर और अनसार और जो भलाई के साथ उन के पैरोकार हुए अल्लाह उन से राज़ी हुआ और वो अल्लाह से राज़ी हुए और अल्लाह ने उन के लिए एसे बाग तय्यार कर रखे है जिन के नीचे नहरे जारी होगी जिन मे वो हमेशा हमेशा रहेंगे ये बड़ी कामयाबी हे (सूरह तौबा 100)

Surah in Hindi

Surah Fatiha in Hindi सूरह फातिहा
Surah Naas in Hindi सूरह नास
Surah Falaq in Hindi सूरह फ़लक़
Surah Yaseen in Hindi सूरह यासीन
Surah Yaseen in Roman English सूरह यासीन इंग्लिश में

Sahaba Ka Martaba

क़यामत तक कोई बड़े से बड़ा वली किसी अदना सहाबी के मरतबे को नहीं पहुंच सकता, जिस तरह कोई वली या सहाबी किसी नबी के मरतबे को नहीं पहुंच सकता |

अल्लाह उन से राज़ी हुवा और वो उस से राज़ी हुए (बय्यिना 8)

हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने फ़रमाया मेरे सहाबा को बुरा न कहो क़सम है उसकी जिस के हाथ मे मेरी जान है अगर तुम मे से कोई उहुद के बराबर सोना सदक़ा करे तो वो उन मे से किसी एक के मुद या आधे मुद के बराबर नहीं होगा |

Leave a Comment

error: Content is protected !!