Pehla Kalma in Hindi | पहला कलमा हिंदी में 2023

अस्सलामु अलैकुम व रहमतुल्लाहि व ब-रकातुह दोस्तों आज इस पोस्ट में हम Pehla Kalma in Hindi में जानेंगे। हदीस शरीफ़ में पहला कलमा की फ़ज़ीलत किया है ये भी हम जानेंगे। Pehla Kalma यानि ला इलाह इल्लाहु एसा कलमा है जिसे मुसलमान अपनी अज़ानों, अकामतों और बात चीत में कहता है। येही वो कलमा है जिस की वज़ा से ज़मीन और आसमान काइम है। इसी कलमा के ज़रिआ अल्लाह ने रसूलों को भेजा।

जो इंसान सच्चे दिल से Pehla Kalma (Pehla Kalma in Hindi) पढ़ेगा तो उसकी जान और माल की हिफाज़त होगी और आखिरत में भी पहला कलमा को पढ़ने और उसके हुक्म पर चलने से कामयाबी मिलेगी। पहला कलमा को कलमा तय्यबह भी कहा जाता है। पहला कलमा में बताया गया है के अल्लाह के सिवा कोई इबादत के लाइक नहीं और मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम अल्लाह के रसूल है इस बात को मानने का हुक्म है।

पहला कलमा अरबी में

Pehla Kalma in Arabic Text

لَآ اِلٰهَ اِلَّا اﷲُ مُحَمَّدٌ رَّسُوْلُ اﷲِ

Pehla Kalma in Hindi

पहला कलमा हिंदी में: ला इलाहा इल-लल्लाहु मुहम्मदुर-रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम)

Pehla Kalma Tarjuma in Hindi

पहला कलमा का तर्जुमा: अल्लाह के सिवा कोई इबादत के लाईक नहीं और मुहम्मद सल-लल्लाहु अलैहि वसल्लम अल्लाह के रसूल है।

Pehla Kalma in Roman English

पहला कलमा रोमन इंग्लिश में: Laa ilaha illal-laahu Muhammadur Rasoolullaah (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम)

Pehla Kalma Tarjuma Roman English Mein

Pehla Kalma Tarjuma in Hindi: Allah ke siwa koi ibadat ke laaiq nahi aur Mohammad Sallallahu Alaihi Wasallam Allah ke Rasool hai.

ये भी पढ़े: 6 Kalma in Hindi

पहला कलमा | Pehla Kalma Ki Daleel

पहला कलमा हदीस शरीफ़ से साबित है। मगर Pehla Kahlma को हदीस में पहला कलमा की बजाए कलमातुत-तक़वा “كلمة التقوى” कहा गया है और कई रिवायत में इस पहला कलमा को पढ़ने की फ़ज़ीलत भी बयान हुई है।

पहला कलमा की फ़ज़ीलत हदीस: सय्यदना अबू हुरैरा रज़ियल्लाहु अन्हु बयान करते है के आप सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने फ़रमाया: अल्लाह तआला ने अपनी किताब में तकब्बुर करने वाली एक क़ौम का ज़िक्र फ़रमाया है ” यक़ीनन जब उन्हें ला इलाहा इल-लल्लाह कहा जाता है तो तकब्बुर करते है और अल्लाह तआला ने फ़रमाया: जब कुफ्ऱ करने वालों ने अपने दिलो में जाहिलियत वाली ज़िद रखी तो अल्लाह ने अपना सुकून और इत्मीनान अपने रसूल और मोमिनों पर उतारा और उन के लिए कलमातुत-तक़वा लाज़िम क़रार दिया और इस के ज़ियादा मुस्तहिक़ और अहल थे और वह (कलमातुत-तक़वा) ’’Laa ilaha illal-laahu Muhammadur Rasoolullaah‘‘ है।

हुदैबिया वाले दिन जब नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने मुद्दत (मुक़र्रर करनने) वाले फैसले में मुशरिकीन से मुआहिदा किया था तो मुशरिकीन ने इस कलमा से तकब्बुर किया था ”

इस्लाम में दाखिल होने के लिए Pehla Kalma in Hindi

हदीसों के पढ़ने से मालूम होता है के इस्लाम में दाखिल होने के लिये पहला कलमा Kalma Tayyaba पढ़ना ज़रूरी है जिसे हम Pehla Kalma कहते है पहला कलमा जिसमें दो बातों की गवाही दी गई है

Pehla Kalma गवाही 1: अल्लाह तआला की तौहीद (अल्लाह एक है)

Pehla Kalma गवाही 2: और मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम अल्लाह के रसूल है

पहला कलमा में दोनों चीज़ें है अल्लाह एक है और मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम अल्लाह के रसूल है इस्लाम कबूल करते वक़्त लोग इनहि दो बातों की गवाही देते थे जिसे हम Pehla Kalma (Kalma Tayyaba) कहते है और क़ुरआन पाक में भी पहला कलमा का ज़िक्र है और इस बात को तमाम मुसलमान मानते है।

ला इलाहा इल-लल्लाह की फ़ज़ीलत (Pehla Kalma)

La Ilaha Illallaah की बहुत सारी फ़ज़ीलत है और अल्लाह के यहा बहुत बुलंद मुकाम है जो शख़्स इसे सच्चे दिल से कहेगा अल्लाह तआला उसे जन्नत में दाखिल करेगा।

ला इलाहा इल-लल्लाह की शर्तें (पहला कलमा)

ला इलाहा इल-लल्लाह (पहला कलमा) की शर्तें जिनको पूरा किये बगैर उस के कहने वाले को फ़ाइदा नहीं देगा

  • (Pehla Kalma in Hindi) ला इलाहा इल-लल्लाह (पहला कलमा) का इल्म रखना यानी तमाम मबूद को छोड़ कर के इबादत को सिर्फ़ अल्लाह के लिये करना जो शख़्स पहला कलमा का इक़रार करता है लेकिन उसके माना और उसे पढ़ने का मक़सद नहीं जनता तो उसे ये फ़ाइदा नही देगा
  • यक़ीन पहला कलमा (Pehla Kalma) के बारे में ऐसा ज्ञान होना चाहिये जिसमे कोई शक और शुबा न हो
  • सच्चे दिल से पहला कलमा पढ़े जिसमें थोड़ा भी शिर्क न पाया जाए हर चीज़ का मालिक अल्लाह को समझे
  • सच्चे दिल से Pehla Kalma को पढ़ा गया हो, कियुंके वो लोग जो पहला कलमा अपनी ज़बान से तो कहते है लेकिन इसके अर्थ मे विश्वास नहीं रखते
  • पहला कलमा और उस का जो माना मफ़हूम है उससे मुहब्बत की जाए और उस (पहला कलमा) पर खूशी महसूस की जाए
  • पहला कलमा का हक़ अदा किया जाए और ये वाजिब है के कोई भी अमल सिर्फ़ अल्लाह के लिये और उसकी खुशी चाहते हुए करें और येही Pehla Kalma की शर्त है (Pehla Kalma in Hindi)

ये पढ़े Surah Fatiha in Hindi

Kalma Hindi Mein

Pehla Kalma पहला कलमा
Dusra Kalma दूसरा कलमा
Teesra Kalma तीसरा कलमा
Chautha Kalma चौथा कलमा
Panchwa Kalma पांचवा कलमा
Chatha Kalma छठा कलमा

पहले कलमे को पढ़ने की फ़ज़ीलत और फायदे

पहले कलमे की वज़ा से आसमान और ज़मीन काइम है

ला इलाहा इल-लल्लाह (Pehla Kalma in Hindi) के ज़रिये रसूलों ने अपनी क़ौम को डराया

इस कलमा के ज़रिये (पहला कलमा हिंदी में) अल्लाह ने अपने बारे में गवाही दी

बोलने की ताक़त रखने वाले ला इलाहा इल-लल्लाह (पहला कलमा) से अच्छा बोल नहीं बोल सकते औ नाही अमल करने वाले इस की रिकुइरमेंट से अच्छा कोई अमल करसकते

ये ही कलमा (Pehla Kalma in Hindi) मज़्बूत कड़ा है, जिसे थामने वाला बच जाएगा

पहला कलमा (ला इलाहा इल-लल्लाह) मख्लूकात के लिए बहुत बड़ी नेमत है

इल्म और अमल के एतबार से ला इलाहा इल-लल्लाह (Pehla Kalma in Hindi) सब से बड़ा कर्तव्य है

Kalma Tayyaba (पहला कलमा) बंदे के लिये क़ब्र मे अज़ाब से बचने और साबित कदमी का कारण है

ला इलाहा इल-लल्लाह (पहला कलमा) कहने वाले को अल्लाह तआला जहन्नम से ज़रूर बाहर निकालेगा चाहे उसके दिल में ज़र्रे के बराबर ईमान हो

Pehla Kalma Ka Matlab

Pehla Kalma in Hindi: अल्लाह तआला के माबूद होने का मतलब येहे के सिर्फ़ उसी की बंदगी करे औ बंदगी के जो तरीक़े उसने अपने रसूल सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम और अपनी किताब के ज़रिए बताए है (यानी नमाज़, रोज़ह, कुर्बानी, ज़कात, हज्ज वगैरा) इस में किसी को उसका साथी और मददगार न बनाए।

ये भी पढ़े Surah Naas

आखरी बात Conclusion (Pehla Kalma in Hindi)

Pehla Kalma in Hindi इस आर्टिकेल को दोस्तों आप लोगों ने पढ़ा जो हर मुसलमान को याद होना चाहिये आप को पहला कलमा हिंदी में (Pehla Kalma in Hindi) के बारे में पढ़कर बहुत जानकारी मिली होगी आप लोग इस कलमा को अछी तरह याद करलीजिए। Pehla Kalma in Hindi में पहला कलमा अरबी और पहला कलमा रोमन इंग्लिश मे भी हमने आप लोगों के लिये लिखा है और Pehle Kalme Ka Tarjuma in Hindi में आप पढ़ सकते है। उम्मीद है के आप लोगों को हमारा ये लेख Pehla Kalma in Hindi अच्छा लगा होगा इस आर्टिक्ल को दूसरों को शयर करें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!